सीकर जिले में कौतूहल: विचित्र हैलिकॉप्टर विषय पर ...क्या है सच्चाई


सीकर जिले में कौतूहल: विचित्र हैलिकॉप्टर विषय पर ...क्या है सच्चाई

सीकर और आस-पास के एरिया मे कई दिनों से एक विचित्र हेलिकॉप्टर काफी नीचे लगातार उड़ान भर रहा है। जिसके नीचे करीब 300 गज परिधि का षट्कोणीय रिंग टंगा हुआ है। इस हेलिकॉप्टर के बारे मे लोग भी विचित्र अटकलें लगा रहे हैं।
दरअसल यह हेलिकॉप्टर शेखावाटी के भूमिगत पेयजल के स्तर का सर्वे कर रहा है, क्योंकि शेखावाटी भारत मे सबसे तेजी से गिर रहे भूजल वाले एरिया में से एक है। यहाँ की तरह भारत के 6 अन्य प्रान्तो में भी यह सर्वे चल रहा है।
डेनमार्क के वैज्ञानिको द्वारा ईज़ाद इस तकनीक को #SkyTEM नाम दिया गया है। हैदराबाद स्थित #भारतीय_राष्ट्रीय_भूभौतिकीय_संस्थान इस सर्वे को अंज़ाम दे रहा है। भारत में इस प्रोजेक्ट को #AQUIM नाम दिया गया है। यह पायलट प्रोजेक्ट दिल्ली स्थित #केन्द्रिय_भूजल_बोर्ड द्वारा मॉनिटर किया जा रहा है। इसके लिये भारत सरकार और विश्व बैंक धन उपलब्ध करवा रहे हैं। इस हेलिकॉप्टर की लटकती कोर्ड में एक बेहद शक्तिशाली जनरेटर लगा है जो कि नीचे लगी विशाल रिंग जो कि कॉइल का काम करती है में विद्युत सप्लाई करता है जिससे उच्च तीव्रता का विद्युत चुम्बकीय क्षेत्र बनता है। जो कि भूमि पर एक तरह का करन्ट जनरेट करता है। जिससे सतह से 300 मीटर नीचे तक के भूजल की जानकारी सैंसर के माध्यम से अंकित हो जाती है। सारी जानकारीयाँ 3डी नक्शे के रुप मे दर्ज होती हैं।
उम्मीद है इस प्रोजेक्ट के माध्यम से क्षेत्र की गिरते भूमिगत जल की समस्या को समझने मे मदद मिलेगी।

No comments:

Featured post

7 तारीख बाद धार्मिक स्थलों को लेकर गाइडलाइन जारी

अतिरिक्त जिला कलेक्टर जयप्रकाश ने बताया कि भारत सरकार की गाईड लाईन जारी होने के बाद गृह विभाग राजस्थान सरकार द्वारा भी गाईड लाईन जारी की गई ...

/fa-clock-o/ WEEK TRENDING$type=list