Skip to main content

सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती का पाँच साल का कार्यकाल....क्या कह रही हैं जनता

सांसद स्वामी सुमेधानंद सरस्वती का 5 साल का कार्यकाल पूरा होने वाला है।सांसद सुमेधानंद सरस्वती सीकर को कोई बड़ी सौगात नहीं दिला पाए, लेकिन खास बात यह भी है कि 5 साल के कार्यकाल के दौरान उनकी छवि पर कोई दाग नहीं लगा. सबसे बड़ी कमजोरी यह रही कि सीकर सांसद कोई राजनीतिक पृष्ठभूमि से नहीं थे और उन्हें पिछली बार मोदी लहर में पार्टी ने टिकट दिया गया।
सीकर विधानसभा क्षेत्र के लिए बड़ी सौगात
ब्रॉड गेज ट्रेन चलवाने और मेडिकल कॉलेज को सांसद की बड़ी उपलब्धि भले ही माना जा रहा हो, लेकिन यह दोनों योजनाएं पहले से ही चल रही थी। ब्रॉडगेज की पटरी बिछाई जा चुकी थी और मेडिकल कॉलेज की घोषणा भी हो चुकी थी. सीकर सांसद ने अभी तक किसी भी बड़े जन आंदोलन में भाग नहीं लिया।
सीकर की जनता के बीच कितने रहते हैं और मिलते हैं कि नहीं मिलते हैं
अक्सर सीकर शहर में ही सांसद का लोगों से मिलना होता है या जिला कलेक्ट्रेट के कार्यालय में लोग उनसे मिल सकते हैं. जहां तक बात आवास की है तो, सीकर सांसद का सीकर शहर में कोई आवास नहीं है. वे खुद ही पिपराली स्थित वैदिक आश्रम में रहते हैं और वहां पर उनसे मिलने जाने वालों की संख्या बहुत कम होती है. सीकर सांसद खुद एक सन्यासी जीवन जी रहे हैं इसलिए घर पर भी लंगर जैसी कोई व्यवस्था नहीं है।
अपने सांसद कोष से कितना रुपया क्षेत्र में लगाया
सुमेधानंद सरस्वती जब सीकर सांसद बने, उससे पहले पूर्व सांसद महादेव सिंह खंडेला के फंड के 11 लाख रुपए इनके खाते में थे. इसके बाद इन पांच सालों में सांसद कोटे में 25 करोड़ रुपये का बजट मिला. मौजूदा 5 सालों में सांसद ने अपने कोटे से सामान्य वर्ग के लिए 19 करोड़ 41 लाख रुपए, SC वर्ग के लिए 3करोड़, 36 लाख और ST वर्ग के लिए 1 करोड़, 66 लाख रुपए खर्च किए. इस प्रकार 25 करोड़ में से 24 करोड़, 43 लाख रुपए खर्च हो चुके हैं।
पार्टी में कितनी पकड़ है
जिला और प्रदेश के स्तर पर संसद में कोई विशेष पहचान नहीं बन पाई है. लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर अपने आप को काफी मजबूत किया है. सांसद बनने के बाद से ही लगातार राष्ट्रीय नेतृत्व के संपर्क में है. केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और सी.आर चौधरी सहित कई बड़े नेताओं से अच्छे संपर्क हैं. साथ ही RSS के बड़े पदाधिकारियों के संपर्क में है।
सीकर की जनता के लिए संसद में कौन-कौन से मुद्दे उठाएं
सीकर के लिए ब्रॉड गेज और मेडिकल कॉलेज का मुद्दा संसद में कई दफा उठाया।साथ ही किसानों से जुड़े मुद्दे खासतौर से प्याज का मुद्दा भी सांसद सरस्वती ने उठाया।

Comments

/fa-clock-o/ WEEK TRENDING$type=list

7 दिन बाद छोड़ना होगा अभिनंदन को....क्या है वजह..आप भी जानिए

'इस वजह से पायलट को हाथ भी नहीं लगा सकती पाकिस्तानी सेना'
सही बात तो ये कि जिनेवा युद्ध बंदी एक्ट के तहत पाकिस्तान को हमारे पायलट को रिहा करना ही होगा. ये कहना है मेजर जनरल रिटायर्ड केके सिन्हा का. हमारा मिग-21 सीमा की सुरक्षा में था. पायलट हमारा वर्दी में है. और पाकिस्तानी सेना मीडिया के सामने ये स्वीकार भी कर चुकी है कि भारतीय वायु सेना का एक पायलट उसके कब्जे में है. सही बात तो ये कि जिनेवा युद्ध बंदी एक्ट के तहत पाकिस्तान को हमारे पायलट को रिहा करना ही होगा. ये कहना है मेजर जनरल रिटायर्ड केके सिन्हा का
मेजन जनरल केके सिन्हा ने कहा कि "कारगिल युद्ध के दौरान फ्लाइट लेफ्टिनेंट नचिकेता का पाकिस्तान में उतरना और पाक सेना द्वारा उन्हें पकड़ना और फिर उनका सही-सलामत वापिस आना एक बड़ा उदाहरण देश के सामने है. अगर हमारे पायलट को कुछ भी होता है तो ये जिनेवा एक्ट का उल्लघंन होगा और इंटरनेशनल लेवल पर ये एक क्रीमिनल केस होगा. 7 दिन बाद ही पाकिस्तान ने नचिकेता को हमे सही-सलामत लौटाया था. ऐसा ही हमारे मिग के पायलट के साथ भी होगा. वर्ना जिनेवा एक्ट का उल्लघंन पाकिस्तान को बहुत भारी पड़…

जयपुर बीकानेर हाइवे पर आपस में टकराई 100 से अधिक गाड़ियां

जयपुर बीकानेर हाइवे पर आपस में टकराई 100  से अधिक गाड़ियां
हाइवे का आज तक का सबसे बड़ा नुकसान

परीक्षा देने जा रहे छात्र परीक्षा से वंचित

सीकर सहित प्रदेश में एक बार फिर मौसम पलट गया है इसका असर आज पलसाना ओर रींगस के बीच दिखाई दिया।बहुत ज्यादा कोहरा छाया रहने के कारण सुबह सुबह रोडवेज बस सहित अनेक गाड़ियां आपस में टकरा गई हालांकि किसी भी जनहानि की सूचना नहीं है।
 वहीं दूसरी तरफ शीतलहर का प्रकोप भी जारी है। नम हवाओं से बढ़ी ठंड से लोग ठिठुरते नजर आ रहे हैं। जगह जगह लोग गर्म कपड़ों में लदे होने के बावजूद भी आग जलाकर सर्दी से बचने का जुगाड़ करते नजर आ रहे हैं।







सीकर लोसल थाना क्षेत्र में युवक की गोली मारकर हत्या

सीकर जिले के लोसल थाना क्षेत्र के खुड़ गांव में सुरेश नामक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। जानकारी के मुताबिक खुड़ के पास सुरेश नामक बावरिया और उसके समाज के लोग एक खेत में खेती-बाड़ी और रखवाली का काम करते हैं। मिली जानकारी के अनुसार बावरिया लोग नीलगाय को भगाने के लिए बंदूक का इस्तेमाल करते हैं वह बंदूक अपने ही समुदाय के व्यक्ति के लिए मौत का कारण बन गई।
मिली जानकारी के अनुसार सुरेश नामक बावरी का खेत जहां पर सुरेश खेती बाड़ी करता था और साथी परिवारजन भी वही रहते थे इस दौरान नीलगाय को भगाने के लिए गोली चलाई गई जो सुरेश के सिर में जा लगी। सुरेश के परिवारजनों ने हत्या का मामला दर्ज कराया है।