Skip to main content

जयपुर बीकानेर हाइवे पर आपस में टकराई 100 से अधिक गाड़ियां

जयपुर बीकानेर हाइवे पर आपस में टकराई 100  से अधिक गाड़ियां
हाइवे का आज तक का सबसे बड़ा नुकसान

परीक्षा देने जा रहे छात्र परीक्षा से वंचित

सीकर सहित प्रदेश में एक बार फिर मौसम पलट गया है इसका असर आज पलसाना ओर रींगस के बीच दिखाई दिया।बहुत ज्यादा कोहरा छाया रहने के कारण सुबह सुबह रोडवेज बस सहित अनेक गाड़ियां आपस में टकरा गई हालांकि किसी भी जनहानि की सूचना नहीं है।
 वहीं दूसरी तरफ शीतलहर का प्रकोप भी जारी है। नम हवाओं से बढ़ी ठंड से लोग ठिठुरते नजर आ रहे हैं। जगह जगह लोग गर्म कपड़ों में लदे होने के बावजूद भी आग जलाकर सर्दी से बचने का जुगाड़ करते नजर आ रहे हैं।







Comments

/fa-clock-o/ WEEK TRENDING$type=list

7 दिन बाद छोड़ना होगा अभिनंदन को....क्या है वजह..आप भी जानिए

'इस वजह से पायलट को हाथ भी नहीं लगा सकती पाकिस्तानी सेना'
सही बात तो ये कि जिनेवा युद्ध बंदी एक्ट के तहत पाकिस्तान को हमारे पायलट को रिहा करना ही होगा. ये कहना है मेजर जनरल रिटायर्ड केके सिन्हा का. हमारा मिग-21 सीमा की सुरक्षा में था. पायलट हमारा वर्दी में है. और पाकिस्तानी सेना मीडिया के सामने ये स्वीकार भी कर चुकी है कि भारतीय वायु सेना का एक पायलट उसके कब्जे में है. सही बात तो ये कि जिनेवा युद्ध बंदी एक्ट के तहत पाकिस्तान को हमारे पायलट को रिहा करना ही होगा. ये कहना है मेजर जनरल रिटायर्ड केके सिन्हा का
मेजन जनरल केके सिन्हा ने कहा कि "कारगिल युद्ध के दौरान फ्लाइट लेफ्टिनेंट नचिकेता का पाकिस्तान में उतरना और पाक सेना द्वारा उन्हें पकड़ना और फिर उनका सही-सलामत वापिस आना एक बड़ा उदाहरण देश के सामने है. अगर हमारे पायलट को कुछ भी होता है तो ये जिनेवा एक्ट का उल्लघंन होगा और इंटरनेशनल लेवल पर ये एक क्रीमिनल केस होगा. 7 दिन बाद ही पाकिस्तान ने नचिकेता को हमे सही-सलामत लौटाया था. ऐसा ही हमारे मिग के पायलट के साथ भी होगा. वर्ना जिनेवा एक्ट का उल्लघंन पाकिस्तान को बहुत भारी पड़…

सीकर लोसल थाना क्षेत्र में युवक की गोली मारकर हत्या

सीकर जिले के लोसल थाना क्षेत्र के खुड़ गांव में सुरेश नामक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। जानकारी के मुताबिक खुड़ के पास सुरेश नामक बावरिया और उसके समाज के लोग एक खेत में खेती-बाड़ी और रखवाली का काम करते हैं। मिली जानकारी के अनुसार बावरिया लोग नीलगाय को भगाने के लिए बंदूक का इस्तेमाल करते हैं वह बंदूक अपने ही समुदाय के व्यक्ति के लिए मौत का कारण बन गई।
मिली जानकारी के अनुसार सुरेश नामक बावरी का खेत जहां पर सुरेश खेती बाड़ी करता था और साथी परिवारजन भी वही रहते थे इस दौरान नीलगाय को भगाने के लिए गोली चलाई गई जो सुरेश के सिर में जा लगी। सुरेश के परिवारजनों ने हत्या का मामला दर्ज कराया है।