कही बारिश से चेहरे खिले तो कही ओलो की मार से चेहरों पर सितम छाया








सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में सोमवार दोपहर को मौसम का मिजाज फिर बदल गया। सीकर शहर व लोसल सहित जिले के कई इलाकों में अचानक तेज बरसात शुरू हो गई। जिसके साथ चने के आकार के ओले भी गिरे। करीब डेढ बजे शुरू हुई बरसात व ओलावृष्टि का दौर अब भी रुक रुककर जारी है। साथ चली सर्द हवाओं ने सर्दी का असर भी बढ़ा दिया है। ओलावृष्टि से किसानों की चिंता भी बढ़ गई।
दादिया, बेरी, तारपुरा, कटराथल, बाजोर, सहित जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में ओलावृष्टि हुई। इससे पहले मौसम ने सुबह से दोपहर तक कई रंग दिखाए। सबसे पहले सुबह अंचल में घना कोहरा छाया रहा, जो 8.30 बजे बाद धूप खिलने से छंटने लगा। लेकिन करीब दो घंटे की हल्की धूप के बाद फिर बादल घिर आए और तेज हवाएं चलने लगी। इसी बीच करीब डेढ़ बजे बादल बरसना शुरू हो गए। जिसमें मोटी बूंदों के साथ चने के आकार के ओले  गिरे।
तापमान में दो डिग्री की गिरावट इससे पहले शेखावाटी इलाके में दो दिन चढ़ा पारा सोमवार को फिर नीचे गिरा। फतेहपुर के कृषि अनुसंधान केंद्र में तापमान करीब दो डिग्री की गिरावट के साथ 6 डिग्री दर्ज हुआ। बरसात व ओले से दिन के तापमान में भी कमी आई है।

दूल्हा-दुल्हन पर गोलीबारी, गम्भीर हालात में जयपुर रैफर


सीकर विदा हुई बारात में दुल्हा दुल्हन पर फायरिेंग, धरने पर बैठा गांव मामला गंभीर 
सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पाटन इलाके में शादी के बाद विदा होकर लौट रहे दो दुल्हा दुल्हन पर फायरिंग का सनसनीखेज मामला सामने आया है। जिसमें दुल्हा- दुल्हन का एक जोड़ा घायल हो गया। जिन्हें नीमकाथाना के राजकीय अस्पताल में उपचार के लिए ले जाया गया। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी है। जानकारी के अनुसार झुंझुनूं जिले के सुरपुरा गांव के संजू व बबलू की पाटन कस्बे के हेमराजपुरा गांव की मालियों की ढाणी निवासी कोमल व निशा से शुक्रवार को शादी हुई थी। आज सुबह ही दुल्हा- दुल्हन के दोनों जोड़ों को एक गाड़ी में ही घर से विदा किया गया था। लेकिन, घर से करीब 15 किलोमीटर दूर ही नीमकाथाना बाईपास पर बाइक सवार युवकों ने उन उनकी गाड़ी पर फायरिंग कर दी। जिसमें दुल्हा संजू व दुल्हन कोमल घायल हो गए। जिन्हें तुरंत नीमकाथाना के राजकीय कपिल अस्पताल पहुंचाया गया। जहां कनपटी के पास गोली लगने पर दुल्हन कोमल की हालत नाजुक बताई जा रही है। वहीं, दुल्हे संजू का भी उपचार जारी है। घटना के बाद घर में चीख पुकार व गांव में सनसनी फैल गई।
लूट का इरादा या प्रेम प्रसंग फायरिंग के मामले को लूट व प्रेम प्रसंग दोनों से जोड़कर देखा जा रहा है। क्योंकि दुल्हा दुल्हन के साथ नेक के साढ़े पांच लाख रुपए भी गाड़ी में थे, जिन्हें लूट के इरादे से फायरिंग किए जाने की बात की जा रही है। वहीं, दूसरी और मामला प्रेस प्रसंग से भी जोड़कर देखा जा रहा है। फिलहाल पुलिस मामले के आरोपी गोविंदाला की ढाणी निवासी इदं्राज गुर्जर व उसके सहयोगियों की तलाश में जुटी है।
सामने बाइक लगाकर किए दो फायर परिजनों के अनुसार बदमाशों ने दुल्हा दुल्हन की गाड़ी को तीन बार ओवर टेक किया। इसके बाद उन्होंने बाइक को गाड़ी के सामने लगा दिया। फिर एक के बाद एक दो फायर किए। जिनमें से एक गोली संजू और दूसरी कोमल को लगी।
अस्पताल में जमा हुई भीड़ घटना के बाद गांव में आक्रोश फैल गया। सैंकड़ों की तादाद में ग्रामीण नीमकाथाना अस्पताल पहुंच गए। जहां धरने पर बैठ वे आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद ही वह अस्पताल से हटेंगे। प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी समझाइश में जुटे हैं।

7 तारीख बाद धार्मिक स्थलों को लेकर गाइडलाइन जारी


अतिरिक्त जिला कलेक्टर जयप्रकाश ने बताया कि भारत सरकार की गाईड लाईन जारी होने के बाद गृह विभाग राजस्थान सरकार द्वारा भी गाईड लाईन जारी की गई है। उसके तहत विशेष रूप से धार्मिक संस्थानों को खोलने के संबंध में निर्देश  दिये गये है। निर्देशों के अनुसार 7 सितम्बर 2020  के बाद में उनके संबंध में निर्णय किया जा सकता है।  उन्होंने बताया कि सोमवार को जिला प्रशासन ने जिले के सबसे बड़े  दो धार्मिक स्थान खाटूश्यामजी मंदिर, जीणमाताजी मंदिर के प्रबंधक और पुजारी को बुलाकर बैठक की और जब भी धार्मिक स्थान खुलेंगे तब 4 जून 2020 को भारत सरकार द्वारा गाईड लाईन जारी की गई है उसकी पालना करना बहुत जरूरी होगा जिसमें महत्वपूर्ण बात यह होगी की  65  साल से ज्यादा वर्ष के व्यक्ति, पुराने रोगों एवं सःरूग्णता  परिस्थतियों से पीड़ित  व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं तथा 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे है वो धार्मिक स्थानों पर नहीं आयें,  दो व्यक्तियों के बीच में 2 गज की दूरी रखें तथा मास्क होना जरूरी है। जहां भी प्रवेश द्वार होगा वहां पर हाथ धोने व  सैनेटाईजर करने की व्यवस्था करनी होगी। सार्वजनिक स्थान पर कोई भी थूक नहीं सकता है। साथ ही  केवल ऎसे व्यक्ति जिनकाें किसी भी तरह का कोई लक्षण नहीं है  जैसे खांसी, जुकाम , बुखार नहीं है वो ही लोग  प्रवेश कर पायेंगे।  इसके लिए थर्मल स्कै्रनिंग की व्यवस्था भी  मंदिर प्रबंधन को करनी होगी। साथ ही पोस्टर लगाकर प्रचार-प्रसार भी मंदिर प्रबंधन की तरफ से ही किया जायेगा। उन्होंने बताया कि मंदिर के आस-पास  जो दुकाने है वहां पर भी सामाजिक दूरी की पालना  किया जाना जरूरी होगा। मूर्ति को या  कोई विशेष स्थान को जहां ज्यादातर लोग छूते है उसकों छुऎंगे नहीं व प्रसाद, जल वितरण , घंटी बजाना वर्जित रहेगा। उन्होंने बताया कि लंगर, प्रसाद के लिए जो जगह होती है सामुदायिक भवन में एक जगह बहुत से व्यक्तियों को भोजन  करवाया जाता है वो नहीं किया जायेगा। साथ ही लगातार उस परिसर और मंदिर के क्षेत्र को सैनेटाईजर करना होगा। फेस मास्क कवर, ग्लबज का नियमित रूप से डिस्पोजल भी प्रबंधन की तरफ से किया जायेगा। यदि  कोई व्यक्ति वहां पर बीमार आता है तो उसको तत्काल आईसोलेट करने के लिए आइसोलेशन की भी व्यवस्था करनी होगी, चिकित्सा सुविधाएं की व्यवस्था भी करनी होंगी। इसके संबंध में मंदिर प्रबंधन को बताया गया है।  बैठक में खाटूश्याम मंदिर प्रबंधन ने कहा कि पहले हम 30 सितम्बर 2020  यह सब तैयारियां करेंगे इसके बाद ही मंदिर में दर्शन की व्यवस्था कर पायेंगे तथा उसके बाद ही मंदिर को आम दर्शनार्थियों के लिए  खोलने की व्यवस्था करेंगे। इसी तरह से जीणमाता जी मंदिर प्रबंधन ने कहा कि 15 सितम्बर 2020 तक राज्य सरकार की गाईड लाईन के अनुसार हमारी पूरी तैयारिया करेंगे उसके बाद ही हम श्रृदालुओं के लिए दर्शन की व्यवस्था कर पायेंगे।  दोनों ही मंदिर प्रंबंधकों ने कहा कि ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था के लिए हम प्रयास कर रहे है जिसकी जानकारी  तीन-चार दिनों में श्रृदालुओं के लिए जारी की जायेगी। एडीएम जयप्रकाश ने बताया कि मंगलवार को जिले के शाकम्भरी मंदिर के पुजारी एवं सीकर शहर के मंदिर ,मस्जिदों के प्रबंधकों से धार्मिक स्थलों को खोले जाने के संबंध में चर्चा की जाएगी।

सामाजिक कार्यकर्ता राकेश मातवा ने प्रकृति के साथ मनाया जन्मदिन


सामाजिक कार्यकर्ता राकेश मातवा ने प्रकृति के साथ मनाया जन्मदिन
सामाजिक कार्यकर्ता राकेश मातवा ने आज अपना जन्मदिन 205 पेड़ लगाकर बड़े ही धूमधाम से मनाया।
राकेश मातवा ने बताया कि जितने वर्ष उतने व्रक्ष मुहीम को लेकर आज मेरे जन्मदिन के उपलक्ष में दादिया गांव में बालाजी मंदिर गोगा जी मंदिर पुलिस थाना दादिया में पौधारोपण किया गया साथी साथ ही संकल्प लिया है कि इन पेड़ पौधों की रखवाली का जिम्मा भी उसी का है। इस मौके पर गांव के सरपंच भवानी शंकर अनिल कुमार विजय सिंह राहुल अजीत दिनेश सहित अनेक सामाजिक कार्यकर्ताओं ने राकेश को जन्मदिन की बधाई प्रेषित की।

सऊदी से जयपुर के लिए उड़ा दूसरा फ्लाइट ,'वंदे भारत मिशन' और रियाद टीम से हुआ यह सम्भव

सऊदी से जयपुर के लिए उड़ा दूसरा फ्लाइट ,'वंदे भारत मिशन' और रियाद टीम से हुआ यह सम्भव ।


रियाद (सऊदी) से  दूसरा फ्लाइट भारतीयों को राजस्थान लाने के लिए उड़ चुका है । यह फ्लाइट राजधानी जयपुर में उतरेगा ।इससे पहले रियाद टीम और सऊदी स्थित भारतीय दूतावास के अथक प्रयासों से  20 जून को चारजेंट फ्लाइट ने जयपुर के लिए सफल उड़ान भरी थी जिसमें यात्रियों को एक टिकट के लिए  1600 रियाल भुगतान करना पड़ा था लेकिन इस बार यह फ्लाइट भारत सरकार के द्वारा जारी 'वंदे भारत मिशन' के तहत उड़ा है जिसमें 940 रियाल ही टिकट के लिए भुगतान करने पड़े ।स्पाइस जेट एयरलाइन्स का यह दूसरा फ्लाइट 181 राजस्थानियों को लेकर उड़ान भरा है ।इस संदर्भ में रियाद टीम ने सबसे पहले भारत सरकार  का आभार व्यक्त किया।रियाज टीम के द्वारा सऊदी स्थिति भारतीय दूतावास में खबर करके लोगों की लिस्ट भेजी और उसके बाद  दूतावास के द्वारा  भारत सरकार को सूचना की गई।इस फ्लाइट में आने वाले कई यात्री ऐसे जरूरतमंद भी है ,जो बीमार है , एक कैंसर का रोगी है ,दो व्यक्ति लकवा से ग्रसित है ,तो वहीं कुछ गर्भवती महिलाएं भी है  ,इसलिए रियाज की टीम  ने ऐसे लोगों की फ्लाइट की टिकट जल्दी बुक करवाई ताके इनको कठिनाइयों का सामना न करना पड़े । रियाद टीम में निसार भारू , गुलाम खान सोती ,शाहिद खान किरडोली,शकील खान डीडवाना,आजाद खान नेछुआ,अरशद अहमद खिरोड़,  असलम खान मावा,शेरे सुल्तान खान जाजोद,शब्बीर खान चूरू,सलीम खान गारिंण्डा, आसिफ खान सुजानगढ़ आदि मौजूद है ।

रणबाकुरों ने भरी हुंकार - पुलिस महानिरीक्षक व जिला कलक्टर कार्यलय पर किया प्रदर्शन

#रणबाकुरों ने भरी #हुंकार - पुलिस #महानिरीक्षक व #जिलाकलक्टर कार्यलय पर किया #प्रदर्शन !!

- प्रशासन ने दोनों विषयों को गम्भीरता से लेते हुए निष्पक्ष जांच पर सहमति जताई !!

बीकानेर - 3 जुलाई बीकानेर पूर्व सिंचाई मंत्री देवीसिंह जी भाटी द्वारा आज पुलिस महानिरीक्षक व जिला कलेक्टर कार्यलय के आगे प्रदर्शन कर सौंपा - बीकानेर सभांग की सबसे बड़ी PBM हॉस्पिटल टॉयलेट में हुई मौत व बज्जू के बहुचर्चित प्रकरण को लेकर आज रणबांकुरा टीम ने हुंकार भरी !!

बज्जू थाना के मामले में जिला मुख्यालय पर प्रमुख प्रशासनिक अधिकारियों ने पूरे मामले में निष्पक्ष जांच करवाने हेतु सहमति प्रदान कर आईजी के स्वयं द्वारा निगरानी का आश्वासन दिया !!

पीबीएम अव्यवस्थाओ को लेकर डॉक्टरों की बजाय प्रशासनिक अधिकारी से करवाने की मांग पर जिला कलेक्टर ने सहमति जताई !!

प्रदर्शन के दौरान रणबाकुरों द्वारा सोशल डिस्टेंस की पालना की व रणबांकुरा लिखे मास्क का प्रयोग किया गया !!

इस दौरान भारी संख्या में रणबांकुरो ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई !!

- देवीसिंह भाटी टीम रणबांकुरा राजस्थान !!

राजस्थान के चर्चित आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के मामले में सीबीआई ने कोर्ट में चार्जशीट पेश

राजस्थान के चर्चित आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के मामले में सीबीआई ने कोर्ट में चार्जशीट पेश कर दी है. मामले में राजपूत समाज के कई दिग्गज नेताओं सहित 24 लोगों को आरोपी बनाया गया है. आनंदपाल सिंह की पुत्री और वकील के अलावा राजपूत समाज के 22 नेताओं को दंगे भड़काने, तत्कालीन नागौर एसपी व महिला IPS पर जानलेवा हमला करने, पुलिस वाहनों को जलाने का दोषी माना है.

CBI, नई दिल्ली की स्पेशल क्राइम ब्रांच-2 के उप महानिरीक्षक जगरूपगुरु सिन्हा के निर्देशन में उपाधीक्षक मुकेश शर्मा ने 24 आरोपियों के खिलाफ जोधपुर की CBI मामलात अदालत में यह चार्ज शीट पेश की है.

जानकर सूत्रों के मुताबिक 2 साल 6 माह चली CBI जांच में लोकेन्द्र सिंह कालवी, सुखदेवसिंह गोगामेढ़ी, गिरीराज सिंह लोटवाड़ा, हनुमानसिंह खांगटा, महिपाल सिंह मकराना, रंजीतसिंह मंगला उर्फ रंजीतसिंह सोढाला, रंजीतसिंह गेंदिया, रणवीर सिंह गुड़ा, योगेन्द्र सिंह कतर, दुर्गसिंह, आेकेन्द्र राणा उर्फ हितेन्द्रसिंह राणा, चरणजीत सिंह कंवर उर्फ चीनू, एपी सिंह, सीमा रघुवंशी उर्फ सीमा राघव, महावीर सिंह, प्रताप सिंह राणावत, प्रेम सिंह बनवासा, भंवर सिंह रेता, दिलीप सिंह, जब्बर सिंह, मोहन सिंह हट्टौज, युनूस अली, राजेन्द्र सिंह गुड़ा, घनश्यामसिंह त्योड के खिलाफ जोधपुर स्थित ACJM-CBI मामलात की विशेष अदालत में चालान पेश किया है.

आपको बता दें कि राजस्थान सरकार ने कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल सिंह की जुलाई 2017 में कथित मुठभेड़ में मारे जाने की जांच सीबीआई से कराने को मंजूरी दी थी. इससे पहले बडे स्तर पर इस एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए राजपूत समाज और आनंदपाल समर्थकों ने बडा आंदोलन किया था जिसके बाद एनकाउंटर के साथ ही इस हिंसा की जांच भाजपा की वसुंधरा राजे सरकार ने सीबीआई को सौंपी थी. राजस्थान सरकार ने 24 जुलाई 2017 को एक पत्र लिखकर सीबीआई जांच का आग्रह किया था. हालांकि, सीबीआई ने 15 नवंबर 2017 को सबूतों की कमी का हवाला देते हुए पहले तो खारिज कर दिया था. बाद में राज्य सरकार ने फिर से 17 दिसंबर को केंद्र सरकार को पत्र लिखकर सीबीआई जांच की मांग नहीं माने जाने पर राजपूतों में असंतोष बढ़ने की बात कही थी. पत्र में चेताया था कि सीबीआई जांच का आदेश नहीं देने से कानून-व्यवस्था की स्थिति बदतर हो सकती है. आनंदपाल सिंह चुरु जिले के मालसर गांव में 24 जून 2017 को पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था.

उसके परिवार के सदस्यों ने मुठभेड़ की विश्वसनीयता को लेकर सवाल उठाए थे और दावा किया गया था कि वह समर्पण करना चाहता था फिर भी उसे मार दिया गया. उधर पुलिस अधिकारियों ने अपने बचाव में कहा कि उसे कई बार समर्पण करने को कहा गया, लेकिन उसने पुलिसकर्मियों पर फायरिंग शुरू कर दी. राजस्थान के प्रभावी राजपूत समुदाय ने उसके मारे जाने पर बड़े स्तर पर प्रदर्शन व सड़क को जाम कर दिया था. आनंदपाल सिंह के एनकाउंटर पर सवाल उठाने वाले लोग उसे रॉबिनहुड मानते हैं. जबकि पुलिस रिक़ॉर्ड में वो इतना कुख्यात गैंगस्टर था कि अदालत को भी एक नहीं 6 बार उसे भगोड़ा घोषित करना पड़ा. एनकाउंटर से करीब डेढ़ साल पहले वो कैद से फरार हो गया था. और काफी मशक्कत के बाद पुलिस ने उसे एनकाउंटर में मार गिराया. उधर इस चार्जशीट के बाद एकबार फिर राजपूत समाज मे आक्रोश देखने को मिल रहा है, बड़े आंदोलन की फिर तैयारी की सुगबुगाहट तेज़ हो गई है
कौन था आनंदपाल?
13 मई 1975 को राजस्थान के नागौर जिले के गांव सांवराद में आनंदपाल सिंह का जन्म हुआ। फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने, टॉपी-जैकेट पहनने का शौक रखने वाला सबसे कुख्यात गैंगस्टर था। वह सितम्बर 2015 देशभर की सुखियों में तब आया जब हत्या, लूट व डकैती समेत कई मामलों में अजमेर जेल में आनंदपाल को लाड़नूं पेशी पर ले जाया गया था. वापसी में वह राजस्थान पुलिस पर हमला करके अपने तीन साथियों के साथ फरार हो गया था.

डेढ़ साल तक राजस्थान की पुलिस आनंदपाल को जिंदा नहीं पकड़ सकी थी. फिर पुलिस को सूचना लगी कि वह चूरू जिले के गांव मालासर में श्रवण सिंह के घर छिपा है. 24 जून 2017 की अमावस्या की रात को पुलिस की स्पेशल टीम ने वहां आनंदपाल को ​एनकाउंटर में मार गिराया.

Featured post

कही बारिश से चेहरे खिले तो कही ओलो की मार से चेहरों पर सितम छाया

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में सोमवार दोपहर को मौसम का मिजाज फिर बदल गया। सीकर शहर व लोसल सहित जिले के कई इलाकों में अचानक तेज बरसात शुरू ह...

/fa-clock-o/ WEEK TRENDING$type=list